हिंदी

True Christianity |  सच्ची मसीहत

  1. Who is Jesus | यीशु कौन है? (.pdf)
  2. Why Did Jesus Die | यीशु क्यों मरा? (.pdf)
  3. What Lies Beyond Death’s Door | मृत्यु के द्वार के आगे क्या है? (.pdf)
  4. Preparing For Eternity | अनन्तकाल के लिए तैयारी (.pdf)
  5. The Resurrection Body | पुनरुत्थान प्राप्त देह (.pdf)
  6. The Truth about Hell | नरक के बारे में सत्य (.pdf)
  7. Wedding of the Lamb |  मेम्ने का विवाह (.pdf)
  8. The Millennium |  सहस्राब्दी (.pdf)
  9. Answering Afterlife Questions | जीवन के ऩ चात के   नक के उ य देना (.pdf)

The Parables of Jesus | यीशु के दृश्टान्त

  1. The Parable of The Wedding Feast |   विवाह भोज का दृश्टान्त (.pdf)
  2. The Parable of The Ten Virgins |  दस कुंवारियों का दृश्टान्त (.pdf)
  3. The Parable of The Ten Minas |   दस मुहरों का दृश्टान्त (.pdf)
  4. The Parable of The Sower | बीज बोन वाले का दृश्टान्त (.pdf)
  5. The Parable of The Hidden Treasure and Pearl | छिपे हुए खज़ाने और मोती का दृश्टान्त (.pdf)
  6. The Parable of The Fig Tree | अंजीर के पेड़ का दृश्टान्त (.pdf)
  7. The Parable of the Weeds | जंगली बीज का दृष्टान्त (.pdf)
  8. The Parable of the Two Debtors | दो देनदारों का दृष्टान्त (.pdf)
  9. The Parable of the Workers in the Vineyard | दाख की बारी के मजदरू ों का दृष्टान्त (.pdf)
  10. The Parable of the Persistent Widow | आग्रही विधिा का दृष्टान्त (.pdf)

Book of John | जॉन की पुस्तक

  1. John 1:1-18 – वचन परमे वर था यहु  ना  (.pdf)
  2. John 1:19-34 – परमे वर ने एक मन ु य भेजा यहु  ना (.pdf)
  3. John 1:35-51 – मसीह का जीवन और शि ा वह भु जो भीतर देखता है (.pdf)
  4. John 2 – येशु ने पानी को दाखरस बनाया (.pdf)
  5. John 3:1-12 – त ु ह नए सिरे िे ज म लेने की आव यकता है! (.pdf)
  6. John 3:11-21 – परमे वर ने ऐसा ेम किया (.pdf)
  7. John 3:22-36 – अव य है कि वह बढ़े (.pdf)
  8. John 4:1-26 – यीशु और सामरी री (.pdf)
  9. John 4:43-54 – यीशु ने राजक चम ारी के प ु को चंगा ककया (.pdf)
  10. John 5:1-15 – क ु ड प र च गं ा ई (.pdf)
  11. John 5:16-30 – यीशु जीवन का दाता (.pdf)
  12. John 6:1-15 – यीशु पा च हज़ार को भोजन कराता ह (.pdf)
  13. John 6:25-59 – यीशु व ग की रोटी (.pdf)
Update: 5/18/2018

Comments are closed.